युवाओं के लिए नए अवसरों का खजाना बनकर उभर रहा है BPO …?

Date:

- Advertisement -

REPORT : PRIYA RAJPOOT 


World of AI : आज के दौर में नौकरी ढूंढना वाकई चुनौतीपूर्ण हो गया है। हर तरफ यही सुनने को मिलता है कि नौकरियां कम हैं और योग्य उम्मीदवार ज्यादा। ऐसे माहौल में युवाओं के लिए करियर के विकल्प तलाशना और भी जरूरी हो जाता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि वही पुराना बीपीओ उद्योग (बिजनेस प्रोसेस आउटसोर्सिंग) अब युवाओं के लिए नए अवसरों का खजाना बनकर उभर रहा है? आइए जानते हैं कैसे आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI) और बदलती मानसिकता बीपीओ उद्योग को युवाओं के लिए एक आकर्षक करियर विकल्प बना रहे हैं।


AI: दक्षता और ग्राहक अनुभव में क्रांति : बीपीओ उद्योग पारंपरिक रूप से डेटा प्रविष्टि, शेड्यूलिंग और बुनियादी ग्राहक सेवा जांच जैसे कार्यों को संभालने के लिए जाना जाता था। हालांकि, AI के आगमन के साथ, ये दोहराए जाने वाले कार्य अब स्वचालित हो रहे हैं। चैटबॉट और वर्चुअल असिस्टेंट इन कार्यों को कुशलतापूर्वक संभाल सकते हैं, जिससे मानव एजेंटों को अधिक जटिल मुद्दों पर ध्यान केंद्रित करने और ग्राहकों को अधिक व्यक्तिगत स्पर्श प्रदान करने की स्वतंत्रता मिलती है। AI न केवल दक्षता बढ़ा रहा है बल्कि ग्राहक अनुभव को भी बेहतर बना रहा है। AI-संचालित चैटबॉट 24/7 उपलब्ध रहकर बुनियादी सवालों का जवाब दे सकते हैं और सरल अनुरोधों को संभाल सकते हैं। इसके अलावा, AI ग्राहक डेटा का विश्लेषण करके और पिछली बातचीतों को ध्यान में रखकर बातचीत को वैयक्तिकृत कर सकता है, जिससे ग्राहकों की संतुष्टि बढ़ती है।


मानसिकता में बदलाव: कॉल सेंटर से ज्ञान केंद्र तक : बीपीओ उद्योग के बारे में लोगों की धारणा में भी पिछले दशक में काफी बदलाव आया है। पहले, बीपीओ को अकुशल कॉल सेंटर के रूप में देखा जाता था। अब, उन्हें ज्ञान केंद्रों के रूप में मान्यता मिल रही है जो जटिल वित्तीय लेनदेन, स्वास्थ्य सेवा प्रक्रियाओं और कानूनी कार्यों सहित सेवाओं की एक विस्तृत श्रृंखला प्रदान करते हैं। इस बदलाव का एक प्रमुख कारण बीपीओ उद्योग में कौशल विकास पर अधिक ध्यान देना है। अब बीपीओ कंपनियां डेटा विश्लेषण, परियोजना प्रबंधन और विदेशी भाषाओं जैसे क्षेत्रों में कौशल विकास को बढ़ावा देने के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रमों में निवेश करती हैं। इससे बीपीओ क्षेत्र के भीतर ही करियर की उन्नति के द्वार खुलते हैं या अन्य उद्योगों में भी संक्रमण का रास्ता बनता है।


लचीले कार्यसमय, तनाव प्रबंधन कार्यक्रम और बेहतर कामकाजी वातावरण जैसी पहल के माध्यम से कर्मचारियों की भलाई पर ध्यान देने के साथ, बीपीओ उद्योग अब काम के माहौल के रूप में भी सकारात्मक छवि बना रहा है। बीपीओ को अब भारतीय अर्थव्यवस्था में महत्वपूर्ण योगदानकर्ता के रूप में मान्यता मिल रही है, जो न केवल राजस्व पैदा करता है बल्कि रोजगार के अवसर भी प्रदान करता है। बीपीओ उद्योग युवाओं के लिए एक आकर्षक करियर विकल्प बन रहा है। AI और बदलती मानसिकता ने इस उद्योग को गतिशील और ज्ञान-आधारित बना दिया है, जो युवाओं को करियर की वृद्धि, कौशल विकास और अवसरों की पेशकश करता है।


 

अन्य भाषा में पढ़े :

अन्य खबरें

Related articles

कुवैत के मंगाफ में लगी भीषण आग की चपेट में फंसकर 40 भारतीयों की दर्दनाक मौत

NEW DELHI : भारतवासियों के लिए एक बुधवार का दिन बेहद दुखद रहा. वजह थी कुवैत के मंगाफ...

PM MODI की मौजूदगी में चंद्रबाबू नायडू ने ली CM पद की शपथ, पवन कल्याण बने डिप्टी सीएम

NEW DELHI : तमाम अटकलों के बीच आज आंध्र प्रदेश में नए मुख्यमंत्री का चयन हो गया. शपथ...

सिनेमाघरों में छा गई फिल्म ‘मुंज्या’ चार दिनों में इतना कलेक्शन, जानकर हैरान हो जाएंगे आप

MANORANJAN JAGAT : मनोरंजन के लिहाज से वर्ष 2024 में कई फिल्मे रिलीज हुई ऐसे में हाल में...

फिल्म समीक्षा : मिस्टर एंड मिसेज “माही”

Movie Review : वर्ष 2024 में कई फिल्में रिलीज़ हुई ज्यादातर फिल्मे दर्शकों का ध्यान खींचने में असफ़ल...
error: Content is protected !!
Enable Notifications OK No thanks